Rome Rome Hu Taro Thato Jau Chu

HINDI

रोमे रोमे हुं तारो थतो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं…() हवे परवडे नही रहेवानुं ताराथी दूर, तारे रहेवानु हैयामां हाजरा हजुर...() तारी नजरोमां.. नजरातो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं… रोमे रोमे हुं तारो थतो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं… हवे जोडु नही नातो हुं जगमां कोइथी, मने वहालो तु वहालो तु वहालो सौथी (२) तारी यादोमा खोवातो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं… रोमे रोमे हुं तारो थतो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं… हवे शरणु लीधु छे तो शत राखजे, तारा बाण ने तारा चरने राखजे वितरागी तारा थकी हुं सोहाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं… रोमे रोमे हुं तारो थतो जाउ छुं… तारा प्रेममां प्रभुजी हुं भिंजाउ छुं (४)


https://youtu.be/csX59taSFgI


© 2023 by Jain Lyrics.