O Guruvar kya Dikhaya

ओ गुरुवर क्या दिखाया

ओ गुरुवर क्या दिखाया रास्ता, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ (२)

ओ गुरुवर दीप जलाया ज्ञान का, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ (२)

हम थे या थी गुमराह कोई, हम थे या कोई टूटी सी डाली…

तुमने दिखा दी एक राह नई, तुमने ही तो दी उम्मीदों की किरण…

ओ गुरुवर, बन गए जो राहबर, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ…

ओ गुरुवर, मिल गई जो तेरी शरण, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ

तुम हो तो हैं खुशियाँ सारी, तुम हो तो है हस्ति हमारी…

तुम से ही है उजियारा जीवन, तुम से ही तो हैं मुक्ति की मंज़िल…

ओ गुरुवर, घूट पिलाया प्यार का, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ.

ओ गुरुवर, क्या दिखाया रास्ता…

दिल को है बस एक तेरी तड़प, हर वक्त है बस तेरी तमन्ना… (२)

मुमकीन नहीं तेरे बिन रहेना, बिन तेरे ये दिल न पाए चैना…

ओ गुरुवर, हमको तन्हा छोड़कर, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ…

ओ गुरुवर, क्या दिखाया रास्ता, और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ…(२)

ओ गुरुवर, दीप जलाया ज्ञान का,

और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ…

और फिर चल दिए तुम कहाँ हम यहाँ…

Name of Song : O Guruvar kya Dikhaya

Language of Song : Hindi

© 2023 by Jain Lyrics.