Kar Charnon Mein Vandan

कर चरणो में वंदन

कर चरणों में वंदन, मैं दीप जलाओ रे…

कैसे बदला जीवन, मैं आज सुनाऊँ रे…

व्याकुल मैं वो मछली, है कैद में जीवन…

जन्मों से पाए है, काया के ये बंधन…

कर चरणों में वंदन…

प्रारब्ध मेरा ऐसा, मैं कुछ ना कर पाऊँ…

दिन-रात तड़पता है, कैसे मुक्ति पाऊँ…

नहीं छूटते है वैभव, ना छूटे आकर्षण…

कैसे महेक बोलो, मेरा आतम मधुबन…

कर चरणों में वंदन…

मन मुजको भरमाए, नित जाल बिछाए…

संसार ज्ञान पाकर, मुझे अहंकार आए…

मिले सुख साधन सारे, फिर भी है अंतर सूना…

तुझ में पाया है वो, जिसको जग में ढूंढा…

कर चरणों में वंदन…

है बंध दरवाजे, नहीं है डौर…

कोई पूर्व भव का नाता, मुझे खींचे तेरी ओर…

क्या पात्र हूँ मैं गुरुवर, जो मिले मुझे तेरी छाया…

होगा सफल जीवन, जो तुने अपनाया… .

कर चरणों में वंदन…

मे भक्त नहीं ऐसा, जैसी थी गुरु मीरा

नहीं में गौतम जैसा, जिससे मिले थे महावीरा

हनी वाला जैसे, मेरे भाई हो पावन,..

सामने तुम मेरे, आँखो में हो श्रद्धा जल।

कर चरणों में वंदन…

देखे कब आयेगा, मेरा मुक्ति संदेश,

व होगी सफल भक्ति, बदले किस्मत रेखा

करता बिनती मैं गुरुवर, तकदीर बना दो…

खो जाऊँ निज धून में, वो संगीत सूना दो…

कर चरणों में वंदन…

जग के झूठे सपने, मिथ्यात्व की आँधी..

कहो कैसे मिलेगी रे, आतम को आजादी…

फिर ना कोई देह मिले, न जग का कोई काम…-

निज में ही मगन रहूँ, निज में पाऊँ विश्राम…

कर चरणों में वंदन…

हे पूज्य दिवाकर तुम, सुन लो मेरी फरियाद…

चरणों में जगह देना, आया मैं लेकर आश…

सागर जैसी शीतल, गुरुदेव निराकुल ह…-

जब शरण में हूँ तेरे, फिर क्यूं मैं व्याकुल हूँ…

कर चरणों में वंदन…

जुड़े वैभव सारे, आतम को अपनाया,..

सम्यकत्व का दर्शन, मुझको है करवाया…

मैं जानता हूं गुरुवर, तुम हो करुणा सागर..

बदली जीवन काया, प्यार तेरा पाकर…

कर चरणों में वंदन…

गुरु प्रार्थना मेरी, चरणों में जगा पाऊँ…

मोक्ष महेल सीडी, मैं चढ़ता ही जाऊँ…

गुरु वचनों में तेरे, दिव्य ध्वनी बरसे…

हमे मिल गया सागर, बूंदो को भी तरसे…

कर चरणों में वंदन…

सागर से मछली को, नहीं छूता है साथ…

गुरु प्रार्थना मेरी, रहे सदा सर पर हाथ…

हे युग दिवाकर आज, हम माँगते वरदान.. नकफक

हम हैं बालक तेरे, रखना हमारा ध्यान…।।

कर चरणों में वंदन…

Name of Song : Kar Charnon Mein Vandan

Language of Song : Hindi

© 2023 by Jain Lyrics.