Guru Satsang Hai

Hindi / English

गुरु सत्संग है

गुरु सत्संग है, प्राणों से प्यारा,

यहाँ बहेती है अमृतधारा… अमृतधारा… अमृतधारा…

गुरु सत्संग है…

कितने जन्मों, से भटक तो, कभी संभला फिर कभी गिरा तु. ।

गुरुवाणी ने तुझको पुकारा, यहाँ बहती है अमृतधारा.,.

अमृतधारा… अमृतधारा…

गुरु सत्संग है…

मुझे ज़मी तुम्हारे

छोड़ अहम को, जा तू शरण में, डाल दु:खों की गठरी चरण में….

गुरु चरणों ने सबको है तारा, यहाँ बहेती है अमृतधारा…

अमृतधारा… अमृतधारा…

गुरु सत्संग है…

हास् तुम

जहेर तेरा वो, पीले क्षण में, प्रलय हो जाए कर्मों का पल में…

तू भी बन जा, गुरु का दुलारा, यहाँ बहेती है अमृतधारा…

अमृतधारा… अमृतधारा…

गुरु सत्संग है प्राणों से प्यारा…

यहाँ बहेती है अमृतधारा… अमृतधारा… अमृतधारा…

गुरु सत्संग है…

Name of Song : Guru Satsang Hai

Language of Song : Hindi


Guru Satsang Hai,Praano Se Pyara (2) Yha Behti Hai Amrut Dhara

Amrut Dhara (2) Guru Satsang Hai Prano Se Pyara (2)

Kitne Janmo Se Bhav Kaa Tu, Kab Sang Laakar Kabhi Biraaju

Guruvani Ne Tujko Pukaara, Yha Behti Hai Amrut Dhara,

Amrut Dhara (2) Guru Satsang Hai Prano Se Pyara(2)

Chorh Humko Jaa Tu Sharan Mei, Baal Dukho Ki Gatri Charan Mei

Gurucharno Ne Sabko Hai Paara, Yha Behti Hai Amrut Dhara,

Amrut Dhara (2) Guru Satsang Hai Prano Se Pyara (2)

Zeher Tera Ho Piley Shan Mei, Pralaya Hojaae Karmo Ka Pal Mei

Tu Bhi Bann Ja Guru Ka Dulara, Yha Behti Hai Amrut Dhara,

Amrut Dhara (2) Guru Satsang Hai Prano Se Pyara (2)

© 2023 by Jain Lyrics.