Bhakti Karta

भक्ति करता

भक्ति करता छूटे मारा प्राण, प्रभु एवं मांगु छु…

रहे चरणकमळ तारुं ध्यान, प्रभु एवं मागं छु…

भक्ति करता…

तारुं मुखडुंप्रभुजी हूँ जोया करुं… (

रात दिवस रटण तारुं कर्या करुं…

रहे अंत समय तारुं ध्यान, प्रभु एवं मागं छु…

भक्ति करता…

मारी आशा निराशा करशो नहीं…

मारा अवगुण हैया मां धरशो नहीं,

श्वासे श्वासे रटुंतारुं नाम, प्रभु एवं मागं छु…।

भक्ति करता…

मारा भवोभवना पाप दूर करो…

मारी अरजी प्रभुजी हैये धरो,

तमे रहेजो भवोभव साथ, प्रभु एवं मागं छु…

भक्ति करता…

Name of Song : Bhakti Karta

Language of Song : Hindi

© 2023 by Jain Lyrics.